AdSense

Click Here

Christmas celebration - क्रिसमस क्यों होता है खास

25 December 

 Christmas Day पूरी दुनिया में मनाया जाने वाला ईसाई समुदाय का सबसे बड़ा त्योहार है जिसे क्रिसमस या फिर बड़ा दिन के नाम से भी जाना जाता है. ईसाई समुदाय द्वारा यह त्योहार 25 december को यीशु मसीह के जन्मदिवस की खुशी में मनाया जाता है क्रिसमस का आरंभ करीबन चौथी सदी में हुआ था। इससे पहले प्रभु यीशु के अनुयायी उनके जन्म दिवस को त्योहार के रूप में नहीं मनाते थे सदियों से यह त्यौहार लोगों को खुशियां बांटता और प्रेम और सौहार्द की मिसाल कायम करता रहा है। यह त्यौहार हमारे सामाजिक परिवेश का प्रतिबिंब भी है, जो विभिन्न वर्गों के बीच भाईचारे को मजबूती देता आया है क्रिसमस ना सिर्फ चर्च में बल्कि पूरी दुनिया में लोग इसे अपने घरों में भी सेलिब्रेट करते हैं क्रिसमस का त्यौहार कई चीजों के लिए खास होता है जैसे क्रिसमस ट्री, स्टार, गिफ्टस .घर परिवार रिश्तेदार और दोस्तों के साथ समय बिताना क्रिसमस की खरीदारी करना बच्चों के लिए गिफ्ट खरीदनाआदि और हां, कई लोग मानते हैं क्रिसमस के दिन सांता क्लॉज बच्चों को उपहार देता है

आइये इस खास मौके पर जाने इस त्‍योहार से जुड़ी खास बाते .........

Chirismas imag



Chirismas Tree   🌲

क्रिसमस का त्यौहार बिना क्रिसमस ट्री के भला कैसे सेलिब्रेट हो सकता है यह तो क्रिसमस पार्टी की जान होती है  क्रिसमस पर विशेष तौर पर क्रिसमस ट्री सजाने का चलन है इसे स्वर्ग का पेड़ कहा जाता है   इस दिन लोग क्रिसमस ट्री को घरों में लाते हैं और उसे रंग बिरंगे रिबन बैलून कैंडी आदि से सजाते हैं क्रिसमस पर लोग अपने घर परिवार दोस्तों रिश्तेदारों के साथ इस पेड़ के आसपास इकट्ठा होते हैं और एक दूसरे को गिफ्ट देते हैं सबसे पहली बार क्रिसमस ट्री का प्रयोग 17 वी शताब्दी में फ्रांस के streax Berg में शुरू हुआ इसके बाद यह जर्मनी और उत्तरी यूरोप में फैला क्रिसमस ट्री को सजाने की शुरुआत करने वाला पहला व्यक्ति बोनिफेंस टुयो नामक एक अंग्रेज धर्मप्रचारक था। 




Santa Claus 🎅

सांता क्लॉज बच्चों के सबसे favourite guest क्योंकि सांता क्लॉस क्रिसमस पर बच्चों के लिए तरह-तरह के ढेर सारे उपहार लाते हैं इसलिए बच्चों को क्रिसमस का खास तौर पर बहुत ज्यादा इंतजार होता है दरअसल सांता क्लॉस एक काल्पनिक व्यक्तित्व है जिसकी उत्पत्ति Smyrna (Izmir) Bishop
Nicholas  से हुई है जो अब तुर्की में है  Bishop Nicholas गरीब बच्चों को खुशी देने के लिए अपनी खिड़की से उपहार  देते थे जिससे बच्चे बहुत खुश होते थे और समय के साथ-साथ Bishop Nicholas की यही छवि सांता क्लास के रूप में विकसित हो गई जो जो क्रिसमस पर बच्चों को उपहार देने के लिए आता है इसके अलावा भी सांता क्लॉस के बारे में बहुत सारी कथाएं प्रचलित है ऐसा माना जाता है कि सांता क्लॉज़ लाल और सफेद कपड़े पहने जिसकी सफेद लंबी दाढ़ी होती है जो रेडियन पर सवार होकर चिमनी के रास्ते घरों में आता है और अच्छे बच्चों के सिरहाने गिफ्ट रख कर चला जाता है माना जाता है कि सांता क्‍लाॅस नार्थ पोल में रहते हैं और 24 दिंस्‍मबर की रात्री को वे रेनडियर पर आते है और प्रभु जीसस के जन्‍म की खुशियां मनाने के लिए बच्‍चो को उपहार देते है।

Christmas Decorations 🎍

वर्षों पूर्व रोमन वासियों ने क्रिसमस पर सजावट की परंपरा शुरू की थी जिसे लोग आज भी फॉलो करते हैं और क्रिसमस के अवसर पर अपने घरों की व गिरजाघरों की साफ सफाई करते है. घर, दुकान और गिरजाघर को लोग रंगीन कागजों और फूलों से रंग बिरंगी लाइटों, ग्रीनरी ,Christmas tree, बलून से सजाते हैं इस अवसर पर न घरों को मिलती है बाजारों में बड़े बड़े मॉल स्ट्रीट लाइट्स सड़कें आदि को भी बहुत अच्छे से सजाया जाता है 

Christmas Eve celebration 📯

25 दिसंबर से 1 दिन पहले यानी 24 दिसंबर को लोग eve  celebration करते हैं दिन लोग एक दूसरे को गिफ्ट देते हैं और यही वह दिन है जब लोग अपने घरों के लिए क्रिसमस ट्री की खरीदारी करते हैं ताकि उसे क्रिसमस के दिन सजा सके i ऐसा माना जाता है कि 24 दिसंबर की मध्यरात्रि को ईसा मसीह का जन्म हुआ था और और इसाई समुदाय के लोग इसे eve दिवस के रुप में मनाते हैं  

 card and gift 

क्रिसमस के खास मौके पर लोगों द्वारा एक दूसरे को गिफ्ट और कार्ड देने की परंपरा बहुत पुरानी ऐसा माना जाता है कि आप क्रिसमस पर लोग एक दूसरे को गिफ्ट कार्ड देकर अपनी खुशी जाहिर करते हैंदुनिया का सबसे पहला क्रिसमस कार्ड विलियम एंगले द्वारा 1842 में भेजा गया था। अपने परिजनों को खुश करने के लिए। इस कार्ड पर किसी शाही परिवार के सदस्य की तस्वीर थी। इसके बाद जैसे की सिलसिला सा लग गया एक दूसरे को क्रिसमस के मौके पर कार्ड देने का और इस से लोगो के बीच मेलमिलाप बढ़ने लगा

Christmas carols

क्रिसमस के दिन कैरोल भी गाया जाता है। कैरोल एक शुभकामना गीत है। माना जाता है कि कैरोल गाने की परंपरा 14वीं शताब्दी से शुरू हुई। सबसे पहले कैरोल इटली में गाया गया। कैरोल को 'नोएल' भी कहा जाता है, इन गीतों के जरिए पड़ोसियों और दोस्तों को क्रिसमस की शुभकामनाएं दी जाती हैं।


दोस्तों उम्मीद है आपको क्रिसमस से जुड़ी यह जानकारी पसंद आई होगी आप आप अपने सुझाव हमें कमेंट के माध्यम से जरूर बताएं इसे अपने दोस्तों और परिवार के साथ भी शेयर करें आगे ऐसे ही पोस्ट पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें सब्सक्रिप्शन बिल्कुल फ्री है

Visite here www.carefast.in

इसे भी पढ़ें 👇


HOW TO BUILD A GOOD RELATIONSHIP WITH PARENTS-माता पिता जीवन का आधार



TRUE FRIEND- दोस्ती एक रिश्ता है जो निभा दे वों फरिश्ता 

TRUE LOVE -21 SIGN OF #TRUE LOVE -क्या यही प्यार हैं



Newest
Previous
Next Post »