AdSense

Click Here

vitamin A health benefit and risk.-क्यों स्वास्थ्य के लिए विटामिन ए महत्वपूर्ण है

विटामिन ए के फायदे, स्रोत और इसके नुकसान – vitamin A benefits, sources and side effects 

विटामिन ए एक वसा घुलनशील विटामिन है जो कई शारीरिक कार्यों के लिए आवश्यक है। अच्छी दृष्टि और स्वस्थ प्रतिरक्षा प्रणाली को बनाए रखने के साथ-साथ विकास के   लिए यह विटामिन आवश्यक है विटामिन ए यौगिकों का एक समूह  है जिसमें रेटिनोल, 
Role of vitamin A

रेटिनोइक एसिड, रेटिनाल, और बीटा कैरोटीन जैसे 

कई प्रोटीटामिन ए कैरोटीनोइड शामिल हैं।जैसे बीटा कैरोटीन।विटामिन ए दो मुख्य रूपों में पाया जाता है जिसे एक्टिव विटामिन और बीटा विटामिन के नाम से जाना जाता है। एक्टिव विटामिन जानवरों के मांस, लीवर और डेयरी प्रोडक्ट में पाया जाता है जिसे retinol कहते हैं। अन्य प्रकार का विटामिन ए सब्जियों और फलों से पाया जाता है, जिसे कैरोनॉयड के नाम से जानते हैं। यह शरीर द्वारा भोजन पचने के बाद रेटिनॉल में परिवर्तित किया जाता है।

विटामिन ए के फायदे /benefit of Vitamin A for human



  • यह त्वचा, हड्डियों और शरीर की अन्य कोशिकाओं को मजबूत रखने में काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। 
  • विटामिन ए में एंटीऑक्सीडेंट मौजूद होता है जो कोशिकाओं को क्षतिग्रस्त होने से बचाता है
  •  विटामिन ए आपके कोशिकाओं के विकास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता कैंसर तब होता है जब असामान्य कोशिकाएं अनियंत्रित तरीके से बढ़ने या विभाजित होने लगती हैं Vitamin A व शरीर में घातक कोशिकाओं के निर्माण को रोकता है और कई रूपों में कैंसर से रक्षा करता है
  • बीटा कैरोनॉयड भी विटामिन ए का रूप है जो पौधों में पाया जाता है। यह आंखों के धुंधलेपन को दूर करता है जिससे उम्र के साथ आंखों से कम दिखाई देने की समस्या उत्पन्न नहीं होती है।
  • ग्लाइकोप्रोटीन के निर्माण में विटामिन ए की जरूरत होती है जो कोशिकाओं को जुड़ने और ऊतकों के बनने में सहायक होता है। 
  • विटामिन ए शक्तिशाली एंटी-ऑक्सीडेंट के रूप में शरीर की कोशिकाओं को फ्री रेडिकल्स से होने वाले नुकसान से बचाता है
  •  त्वचा स्वस्थ और चमकदार बनी रहती है
  • यह विटामिन शरीर में अनेक अंगों जैसे त्वचा,बाल, नाखून, ग्रंथि, दांत, मसूड़ा और हड्डी को सामान्य रूप में बनाए रखने में मदद करता है।
  • यह रक्त में कैल्शियम का स्तर बनाए रखने में भी मदद करती है और हड्डियों को मजबूत बनाती है




विटामिन ए की कमी से स्वास्थ्य को होने वाले नुकसान deficiency of Vitamin A 

Deficiency of vitamin A


  • विटामिन ए की कमी से किसी भी व्यक्ति को फेफड़े और श्वास संबंधी रोग हो सकते हैं
  • .त्वचा त्वचा संबंधी समस्याओं का मुख्य कारण विटामिन A   पर्याप्त मात्रा का ना लेना है एक्जिमा एक ऐसी स्थिति है जो शुष्क, खुजली और सूजन त्वचा का कारण बनती है  त्वचा की मरम्मत में विटामिन ए एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और सूजन से लड़ने में मदद करता है। 

  •  Vitamin ए की कमी काआँखों के स्वास्थ्य पर प्रभाव पड़ता है जिससे रतौंधी जैसे रोग हो सकता है और आँसू सूख जाते हैं विटामिन ए में फैट सैल्यूबल विटामिन होते हैं। जो आंखों के लिए बहुत जरूरी है। इसकी कमी से आंखों मे चुभन, खुजली और आंखों की पुतलियां कमजोर और आंखों की रोशनी कम होती है।
  •  यह रक्त में कैल्शियम का स्तर बनाए रखने में भी मदद करती है और हड्डियों को मजबूत बनाती है 
  • बालों को घना, लंबा, मुलायम रखने के लिए विटामिन ए जरूरी होता है। जब बाल झड़ना शरू हो जाएं या रूखे हो जाएं तो समझ ले कि शरीर विटामिन ए की कमी है विटामिन 
  • स्त्री-पुरुषों के जननांग शिथिल होने लगते हैं और सहवास की इच्छा शिथिल हो जाती है. कई बार महिलाओं को प्रेगनैंसी में कठिनाई होती है। इस कमी से कुछ महिलाएं मां नहीं बन पाती। उनकी प्रजनना क्षमता कमजोर होनी शुरू हो जाती है


विटामिन ए के स्रोत resources of vitamin A

विटामिन ए का मुख्य स्रोत सब्जियों और फल हैं. इन सब्जियों में गाजर, चुकंदर, टमाटर आदि सभी गहरे रंग की सब्ज़ियां, लाल रंग की सब्जियाँ, मटर, ब्रोकली,पीले या नारंगी रंग के फल,, चीकू, साबुत अनाज, मिर्च, बटर, गाजर, डेयरी प्रोडक्ट, हरी पत्‍तेदार सब्‍जियां, बींस, राजमा, सरसों, पपीता, धनिया,
 मटर, कद्दू, लाल मिर्च खाने से विटामिन ए की कमी पूरी होती है।फूड, मीट, अंडा, मछली का तेल डाइट में शामिल करने से शरीर में विटामिन ए की कमी को पूरा कर सकते हैं।


Side effect of overdose of Vitamin  A विटामिन ए की अधिकता से होने वाले नुकसान

किसी भी एक तत्व की कमी से जहाँ शरीर में रोग हो जाते हैं तो वहीं दूसरी ओर जरूरत से ज्यादा सेवन भी नुकसान पहुंचा सकता है. विटामिन ए शरीर के विकास के लिए बहुत जरूरी है लेकिन अगर सही मात्रा में न लिया जाए तो यही विटामिन ए शरीर के स्वास्थ्य के लिए घातक सिद्ध हो सकता है.
  • अत्याधिक पोषक ए लेने से शरीर पर अनेक दुर्प्रभाव हो सकते हैं जैसे कि सिरदर्द, देखने में दिक्कत, थकावट, दस्त, बाल गिरना, त्वचा खराब हो जाना, हड्डी और जोडों में दर्द, कलेजा को नुकसान पहुँचना और
  •  लडकियों में असमय मासिक धर्म।
  •  गर्भ के दौरान खास सावधानी – अत्याधिक पोषक ए, पेट में पलते बच्चे को नुकसान पहुँचा सकता है।
  • विटामिन ए जरूरत से ज्याद हड्डी संबंधित रोग व हेयर लॉस और इसके साथ ही होठों की त्वचा पर रुखापन और साथ ही वजन में भी कमी देखी जाती है।

 

विटामिन ए कितनी मात्रा में लेना चाहिए/ how much we take vitamin

Vitamin ए का दैनिक आवश्यकता आयु और सेहत के अनुसार

  • जन्म से 6 महीने के उम्र के शिशु को करीब 1333 आइ यु या 400 माईक्रोग्राम
  • 6 से 12 महीने के उम्र के शिशु को करीब 1666 आइ यु या 500 माईक्रोग्राम
  • 1 से 3 साल के बच्चे को करीब 1000 आइ यु या 300 माईक्रोग्राम
  • 4 से 8 साल के बच्चे को करीब 1333 आइ यु या 400 माईक्रोग्राम
  • 9 से 13 साल के बच्चे को करीब 2000 आइ यु या 600 माईक्रोग्राम
  • 14 से 30 साल के पुरुष को करीब 3000 आइ यु या 900 माईक्रोग्राम
  • 14 से 30 साल के महिला को करीब 2333 आइ यु या 700 माईक्रोग्राम
  • गर्भ के दौरान करीब 2500 आइ यु या 750 माईक्रोग्राम
  • स्तनपान के दौरान करीब 4000 आइ यु या 1200 माईक्रोग्राम
फ्रेंड्स आपको यह पोस्ट कैसी लगी हमें कमेंट करके जरूर बताएं आपका एक कमेंट हमारे लिए बहुत उपयोगी साबित होता है हमें और बेहतर लिखने की प्रेरणा मिलती है उम्मीद है आपको यह पोस्ट पसंद आया होगा इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें
 यहां दी गई जानकारी आपके ज्ञान वर्धन के लिए है किसी भी विटामिन  सप्लीमेंट लेने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य लें आप ऐसे ही उपयोगी जानकारी प्राप्त करने के लिए हमें सब्सक्राइब करें आप हमें टि्वटर इंस्टाग्राम फेसबुक पेज,  Linkdin  ,गूगल प्लस पर fellow कर सकते हैं

Vitis करें - www.carefast.in




Thank you for visiting here










Previous
Next Post »